सोम्मार जेठ ०९ , ९ जेष्ठ २०७९, सोमबार| थारु संम्बत:२६४५

लावा बरस कलक् का हो ?

लावा बरस कलक् का हो ?

मनमती बखरिया
परापूर्व कालसे बहार देशम लावा बरसके रुपम (म्भअझदभच बिकत व्बलगबचथ ज्ञकत) पुष १५ ह मन्टी आइल डेखा परठ कलसे नेपाली समाजम बैशाख १ गते ओ थारुनके माघ १ गते लावा बरसके शुरु हुइट कना मान्यता बा ।

लावा बरस विश्वम आपन आपन परम्परा अनुसार भव्य रुपसे मनैना चलन बा । यी दिनसे कौनो फेन मजा कामके शुरुवात शुभकार्यके लाग योजना बनैना चलन बा ।

ओस्टक यी दिन म कौनो फेन चिजके अथवा कामके शुरुवात कर्लसे पूर्ण रुपसे सफलता मिलठ कना विश्वास बा । टबक मार यी दिन म चहा जत्रा भारी दुस्मन रलसेफेन बिसराइक परठ । ओ लावा कामके सोच बनाक आघ बर्हक् परठ कना पुर्खनके कहाइ बा ।

हमार थारु समाजम खास कैक माघ १ गतेके दिन लावा वर्षक रुपम मनैना चलन बा, मने मजा कामके शुरुवात माघ २ गते के दिन मान्जाइठ । यी दिन ह माघी देवानी कहठ यिह दिनसे हमार थारुनके जग्गा जमिनके छिनो फानोसे लेक अउर अउर कामके छिनोफानो फेन यिह दिनसे करटी आइल चलन बा ।

मने आझकाल विश्वम जहाँ फेन आपन आपन लावा वर्ष आपन चलन चल्टी अनुसार मनैलेसेफे एकठो भारी टिहुवारके रुपम मनैना ओ रमाइलो के रुपम मनैठ ।

यी एकठो बहुत खर्चिलो ओ विकृति ओर जाइहस फेन डेखापरठ टबक मार हमार खास एकर महत्व का हो ट ? हम्र यी हि कौन तरिकासे मनैलसे सहि डगरम हमार संस्कार नेंगी ओ हमार खर्च कैसिक कम हुइ ? कना चेतना लावा पिढीह अइना चाहि । ताकि लावा बरस कलक एकठो टिहुवार नैहोक कौनोफेन मजा कामके शुरुवात कर्ना दिनके अवसर हो । कैक बुझ सेक्जाइठ ।


error: Content is protected !!